Skip to main content

सुदामा जी के पिता का क्या नाम है sudama ji ke pitaji ka kya naam tha

सुदामा जी के माता पिता कौन थे? 

सुदामा जी एक निर्धन ब्रम्हण थे जिन्होंने अपना जीवन श्री कृष्णा के चरणों मे समर्पित कर दिया था उनके पिता थे शरडधार और माता का नाम सत्यबती था और उनकी पत्नी का नाम सुसीला देवी था 
सुदामा जी का घर अस्मावतीपुर (पोरबन्दर) मे था, सुदामा जी के परम् मित्र श्री कृष्ण थे और इनके गुरू जी का नाम संदीपनी मुनी था 
श्री कृष्ण ने और सुदामा जी बलराम ने साथ उज्जैन में शिक्षा ग्रहण किये
जब भी हम आदर्श मित्रता की बात करते हैं, सुदामा और श्री कृष्ण का प्रेम स्मरण हो आता है।
sudamas wifeएक ब्राह्मण, भगवान श्री कृष्ण के परम मित्र थे। वे बड़े ज्ञानी, विषयों से विरक्त, शांतचित्त तथा जितेन्द्रिय थे। वे गृहस्थी होकर भी किसी प्रकार का संग्रह परिग्रह न करके प्रारब्ध के अनुसार जो भी मिल जाता उसी में सन्तुष्ट रहते थे। उनके वस्त्र फटे पुराने थे। उनकी पत्नी के वस्त्र भी वैसे ही थे।
उनकी पत्नी का नाम सुशीला था। नाम के अनुसार वह शीलवती भी थीं। वह दोनों भिक्षा मांगकर लाते और उसे ही खाते लेकिन यह बहुत दिन तक नहीं चल सका। कुछ वर्षों के बाद सुशीला इतनी कमजोर हो गईं कि चलने फिरने में उनका शरीर कांपने लगता। तब सुशीला का धैर्य थोड़ा कम हुआ और उन्होंने सुदामा जी से प्रार्थना की कि वह अपने बचपन के मित्र श्री कृष्ण के पास जाएँ, वे शरणागतवत्सल हैं। यदि अपनी स्थिति से उनको परिचय कराएगें तो, वह अवश्य ही हमारी मदद करेंगे। ऐसा सुनकर वह अपनी पत्नी से बोले यदि कोई भेंट देने योग्य वस्तु है तो दे दो, तब सुशीला ने पड़ोस के घर से चार मुठ्ठी तन्दुल माँगे और अपनी साड़ी का एक टुकड़ा फाड़कर उसमें बांध कर दे दिए।
सुदामा जी चल पड़े, चलते-चलते वह जंगल के रास्ते समुद्र की खाड़ी के पास पहुँचे, भूख-प्यास से व्याकुल होकर वो वहीँ रास्ते में थककर सो गए।
श्री कृष्ण अंतर्यामी तो थे ही, उन्होंने देखा उनका प्रेमी भक्त सुदामा उनसे मिलने आ रहा है। वो नहीं चाहते थे कि सुदामा को किसी प्रकार का कष्ट हो इसलिए उन्होंने योगमाया से जैसा कहा उन्होंने वैसा ही किया, जब प्रातःकाल सुदामा जी ने अपनी आँखें खोलीं तो देखा कि द्वारकाधीश भगवान की जय जयकार हो रही थी।
सुदामा जी कुछ समझ ना पाए और अपने पास में खड़े व्यक्ति को अपना परिचय देते हुए कहा- मैं श्री कृष्ण का मित्र हूँ और उनसे मिलना चाहता हूँ। उस व्यक्ति ने कहा, “वो सामने महल है जहाँ द्वारपाल खड़े हैं, वहाँ चले जाओ। द्वारपालों को सुदामा की फटेहाल आवस्था देखकर बड़ा आश्चर्य हुआ और उन्होंने सुदामा जी के आने का सन्देश श्री कृष्ण को दिया।
श्री कृष्ण ने जैसे ही द्वारपालों के मुख से सुना सुदामा आया है, वे पलंग से कूद पड़े, दौड़ पड़े और सातों दरवाजो को पार करते हुए बाहर आ गए। उन्हें देखकर भगवान श्री कृष्ण के आंसू बहने लगे और उन्होंने सुदामा को अपने ह्र्दय से लगा लिया। द्वारपालों को यह देखकर बड़ा आश्चर्य हुआ। सुदामा भी अपने बचपन के सखा को देखकर आनंदित हुए, उनके नेत्रों से भी अश्रुधारा बहने लगी।
श्री कृष्ण सुदामा का हाथ पकड़कर अन्दर ले आये और उन्हें अपने पलंग पर बैठा दिया, स्वयं नीचे बैठ गए और सुदामा जी के चरण अपनी गोद में रखे। भगवान श्री कृष्ण ने रुकमणि जी से थाल और जल मंगवाया। वह जितनी देर में जल ला ही रही थीं,  श्री कृष्ण ने अपने आँसुओं से ही उनका चरण प्रक्षालन कर दिया। भगवान ने सुदामा जी का पाँव देखा तो उसमें कांटा चुभा हुआ था। भगवान ने बिना किसी देरी के झट अपने मुख से ही कांटे को निकल दिया। 
                      आत्मा क्या है परमात्मा क्या है
सुदामा जी का चरण प्रक्षालन किया, पूजन किया उसके बाद अपनी सभी रानियों को इशारा किया –‘प्रणाम करो! आर्शीवाद लो! ये सिद्ध महापुरुष हैं। रुक्मणि जी, सत्यभामा, जामवंती आदि सभी देवियों ने प्रणाम किया और आर्शीवाद लिया।
श्री कृष्ण ने सुदामा जी से पूछा– मित्र! आपने विवाह किया है कि नहीं?
सुदामा जी ने कहा– मैंने किया तो है लेकिन एक ही किया है।
श्री कृष्ण बोले– अच्छा, विवाह किया है तो भाभी जी ने कुछ मेरे खाने-पीने को तो भेजा होगा।
अब, सुदामा जी को संकोच लगने लगा। उनको लग रहा था, इतने बड़े-बड़े रत्नजटित महल हैं और ये मैं चार मुट्ठी तन्दुल निकाल कर दूंगा, इनकी सभी पत्नियाँ यहाँ खड़ी हैं, वो क्या सोचेंगी? ऐसा सोचकर सुदामा जी ने सिर नीचे कर लिया और लज्जावश चार मुट्ठी तन्दुल लक्ष्मीपति भगवान श्री कृष्ण को नहीं दे पाये।भगवान श्री कृष्ण समस्त प्राणियों के ह्रदय का एक-एक संकल्प जानते हैं।उन्होंने सुदामा के आने का कारण एवं उनके ह्रदय की बात जान ली। अब वे विचार करने लगे कि यह मेरा प्रिय सखा है और दूसरा इसने लक्ष्मी की चाहना से मेरा भजन कीर्तन नहीं किया।
अब मैं इसे ऐसी सम्पति दूंगा जो देवताओं के लिए भी दुर्लभ है, ऐसा सोचकर भगवान श्री कृष्ण ने सुदामा के बगल में छिपाई हुई पोटली छीन ली।
उसमें से एक मुट्ठी तन्दुल खाया और सुदामा को एक लोक की सम्पति दे दी। दूसरी मुट्ठी खाया और दूसरे लोक की सम्पति दे दी। तीसरी मुट्ठी तन्दुल खाकर बैकुंठ की भी सम्पति देने को तैयार थे, रुक्मणि जी घबरा गयीं और बड़ी बुद्धिमता से मना करते हुए कहने लगीं, क्या हमको इतने बड़े महात्मा के घर का प्रसाद नहीं मिलेगा? क्या सारा आप ही ले लेंगे?
भगवान ने दो मुट्ठी तन्दुल खाकर बाकी सभी रानियों को बाँट दिया ।
भगवान ने सुदामा के लिए छप्पन भोग बनवाए, भोजन कराया। सुदामा जी बड़े आराम से महल में सो गए मानो बैकुंठ में पहुँच गये हों।
सुदामा जी प्रातःकाल नित्यकर्म व बालभोग करके निर्वृत हुए। एक तरफ कृष्ण जी उत्साहित होकर सोच रहे थे कि सुदामा जल्दी ही सुदामापुरी पहुंचे और देखे कि कैसे सुदामापुरी द्वारिकापुरी में बदल चुकी है।
दूसरी तरफ सुदामा जी सोच रहे थे- लगता है श्री कृष्ण को पता लग गया है, मैं सम्पति के लिए आया था लेकिन वो जानते हैं की सम्पति मिलने के बाद भजन में व्यवधान पड़ेगा, इसलिए उन्होंने सम्पति नहीं दी, वे कितने दयालु हैं।
इस प्रकार सुदामा विचार करते-करते अपने घर पहुँच गये और सोचने लगे कि सुशीला कहाँ चली गयी?
इतनी ही देर में सुशीला सोने के थाल में आरती सजा कर सैकड़ों सेविकाओं के साथ सुदामा जी के सामने आकर खड़ी हो गई। ये देखकर सुदामा जी की आँखों से आंसू बहने लगे और वह सोचने लगे- “धन्य हैं प्रभु जो छिपकर देते हैं, बताते भी नहीं कि मैंने दिया है”। भगवान श्री कृष्ण की उदारता और प्रेम देखकर सुशीला और सुदामा ने निश्चय किया कि वे त्यागपूर्वक निरासक्त भाव से महल में रहते हुए भगवान की भक्ति करेंगे। इस प्रकार भक्ति करते हुए दोनों भगवान श्री कृष्ण के धाम को प्राप्त हो जाते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

सत्य क्या है? satya kya hai?

स त्य क्या है?  ब्रह्म सत्यम् जगत मिथ्यम् ब्रह्म ही सत्य है बकी सारा जगत मिथ्या है, उस संसार में परम पिता परमात्मा ही सत्य है वाकी सारा जगत मिथ्या है एक मात्र शाश्वत सत्य मृत्यू ही है इस संसार में जोभी कुछ है वह सब कुछ झूठ है और यह संसार परमात्मा का रंग मंच है और हम उनके खिलौने है जिस प्रकार बच्चे थिलौनो से खेलते है  और फिर जब मन भर जाता है तो उन्हे तोड देते हैं उसी प्रकार ब्रह्म भी खेलते है और मन भर जाता है तो संसार का प्रलय कर देते हैं भगवान का यह संसार कृणा स्थल है जहा प्रभू खेलते है और मनुष्य जब कोई गलती करता है और पाप करता है तो भगवान हसते है कि मेने तुम्हे संसार में तुम्हें धर्म कर्म करने के लिए भेजा था और तुम ये सब पाप कर रहे हो हमे पाप का मार्ग छोड के पुण्य का मार्ग अपनाना चाहिए परमात्मा ने हमे 84लाख योनियो मे सबसे श्रेष्ठ मनुष्य का जन्म दिया और हम इस सरीर को व्यर्थ गवा रहे हैं हमे जब और अच्छी चीज फ्री मे मिलती है तो हमे उसका उपयोग बहुत अच्छे से करना चाहिए और हमे तो बहुत ही कीमती शरीर मिला है  जो देवताओ को भी दुर्लभ है बडें भाग्य मानुष तनपावा  सुरदुर्लभ सब ग्र

ब्रह्म क्या है? कोन है? brahm kya hai?

ब्रह्म क्या है? कोन है?   ब्रह्म एक सून्य के समान है जो अपने आप मे पूर्ण है जिस प्रकार किसी अंक के पीछे सून्य लग जाने से उस अंक कि किमत बढ जाजी है उसी प्रकार ब्रह्म है | ब्रम्ह कि जरूरत सब को है परंतू ब्रह्म को किसी जरूरत नही है ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार सून्य कि जरूरत अंको को है                                                              mahavishnu                aatma kya hai?आत्मा क्या है? सून्य को किसी कि जरूरत नही है | परब्रह्म एक सून्य के समान है ब्रह्म हर जगह है इशा वाशं जगत सर्वं इश्वर का वाश सारे जगत मे है हर प्राणी मे इश्वर है वही इश्वर जो जगत मे हमे रहने कि भोजन कि व्यवस्था देते हैं                                             srashthi ki utpatti सृष्टि कि उत्पत्ति कैसे हुई? परमात्मा का उपकार हमे पुन्य करके चुकान चाहिए लेकिन हम पुण्य करने कि जगह पाप कि पाप कर रहे हैं  माया माया सब भजे माधव भजे ना कोई|  जो एक बार माधव भजे माया चेली होये || तो पैसा पैसा तो सब बोलते हैं पर भगबान का नाम कोई नहीं लेता है लेकिन एक बार सच्चे मन से भगबान का नाम लेल

भगवान विष्णु के पुत्रो के नाम क्या थे? vishnu ke putro ke nam kya hai?

भगवान विष्णु के पुत्रो के नाम क्या थे? Bhagvan vishnu ke putro ke kya nam the?  Bhagvan vishnu or laxmi ji ब्रह्मा के काल में हुए भगवान विष्णु को पालनहार माना जाता है। विष्णु ने ब्रह्मा के पुत्र भृगु की पुत्र लक्ष्मी से विवाह किया था। शिव ने ब्रह्मा के पुत्र दक्ष की कन्या सती से विवाह किया था। हिन्दू धर्म के अनुसार विष्णु परमेश्वर के 3 मुख्य रूपों में से एक रूप हैं। पुराणों की खाक छानने के बाद पता चलता हैं कि वे लगभग 9500 ईसापूर्व हुए थे। यहां प्रस्तुत है भगवान विष्णु का संक्षिप्त परिचय।    आनन्द: कर्दम: श्रीदश्चिक्लीत इति विश्रुत:।  ऋषय श्रिय: पुत्राश्च मयि श्रीर्देवी देवता।। - (ऋग्वेद 4/5/6) भगवान विष्णु का संछिप्त परिचय- नाम - विष्‍णु वर्णन - हाथ में शंख, गदा, चक्र, कमल पत्नी- लक्ष्मी पुत्र- आनंद, कर्दम, श्रीद, चिक्लीत शस्त्र- सुदर्शन चक्र वाहन- गरूड़ विष्णु पार्षद- जय, विजय विष्णु संदेशवाहक- नारद निवास- क्षीरसागर (हिन्द महासागर) ग्रंथ- विष्णु ‍पुराण, भागवत पुराण, वराह पुराण, मत्स्य पुराण, कुर्म पुराण। मंत्र - ॐ विष्णु नम:, ॐ नमो नारायण, हरि ॐ प्रमुख अवतार   Shri maha vishnu सनक, सन